तू मिले या न मिले 

तुझसे मोहब्बत करता रहूँगा,तू मिले या न मिले।
तुझपे ही मरता रहूँगा तू मिले या न मिले।
चाहे तू कभी न रुके तनहा खड़ा मुझे देखकर,
उन रास्तों पर रुकता रहूँगा,तू रुके या न रुके,
तुझसे मोहब्बत करता रहूँगा,तू मिले या न मिले।
तुझपे ही मरता रहूँगा तू मिले या न मिले।
चाहे तू कभी न जगे मेरी  याद में कभी रात भर,
तुझे याद कर जगता रहूँगा,तू जगे या न जगे।
तुझसे मोहब्बत करता रहूँगा,तू मिले या न मिले।
तुझपे ही मरता रहूँगा तू मिले या न मिले।
फरमान करदे आम चाहे मिटाने का मुझे,पर 
तेरी हर अदा पर मिटता रहूँगा,तू मिले या न मिले।
तुझसे मोहब्बत करता रहूँगा,तू मिले या न मिले।
तुझपे ही मरता रहूँगा तू मिले या न मिले।
दिल में जगह चाहे न दे,ना लबों पे चाहे नाम ले,
धडकनों में तेरी धड़कता रहूँगा,माने तू या ना मान ले।
तुझसे मोहब्बत करता रहूँगा,तू मिले या न मिले।
तुझपे ही मरता रहूँगा तू मिले या न मिले।
डरती रहे,बचती रहे,मेरे प्यार के एहसास से,
तेरी हर सांस में बस्ता रहूँगा,तू मिले या न मिले।
तुझसे मोहब्बत करता रहूँगा,तू मिले या न मिले।
तुझपे ही मरता रहूँगा तू मिले या न मिले।
 
तड़प के तेरे प्यार में,मर भी गया मै अगर,
कहीं न कहीं मिलता रहूँगा,तू मिले या न मिले।
तुझसे मोहब्बत करता रहूँगा,तू मिले या न मिले।
तुझपे ही मरता रहूँगा तू मिले या न मिले।
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s