इब्तेदा-ए-इश्क है रोता है क्या।(It’s the Beginning of love,why do you cry!) –  Mir Taqi Mir

इब्तेदा-ए-इश्क है रोता है क्या,
आगे-आगे देखिये होता है क्या।
It’s the beginning of love,why do you cry,
Further,see what happens next.

काफ़िले में सुबह के एक शोर है,
यानी ग़ाफिल हम चले सोता है क्या।
It’s a noise in caravan of the morning,
That means’s I go negligent,what you rest.

सब्ज़ होती ही नहीं ये सर ज़मीं,
तुख्म-ए-ख्वाहिश दिल में तू बोता है क्या।
It’s not possible to turn this land green,
A desire in your heart,what you seed.

ये निशाने इश्क हैं जाते नहीं,
दाग छाती के अबस धोता है क्या।
These are signs of love,they don’t go,
Simply stains on your chest,what you wash.

ग़ैरत-ए-युसूफ है यह वक़्त-ए-अज़ीज़,
मीर इसको रायगाँ खोता है क्या।
In honor of Yusuf,this time is precious,
‘Mir’,to it in vain,what you waste.

To have a better understanding of this Ghazal click here

Advertisements

3 thoughts on “Ibteda-e-ishq hai-Mir

  1. सब्ज़ होती ही नहीं ये सर ज़मीं,
    तुख्म-ए-ख्वाहिश दिल में तू बोता है क्या।

    ये निशाने इश्क हैं जाते नहीं,
    दाग छाती के अबस धोता है क्या।

    waah Meer ke ye sher lajawab lage !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s